IQNA

19:19 - August 21, 2019
समाचार आईडी: 3473902
अंतर्राष्ट्रीय समूह-इस्लाम और हिंदू धर्म पर धार्मिक वार्ता का दूसरा दौर इस 26 अगस्त को तेहरान में आयोजित किया जाएगा।

इस्लामिक संस्कृति और संचार संगठन के अनुसार,इस्लामिक रिलेशंस एंड कल्चर के लिए धार्मिक और सांस्कृतिक संवाद केंद्र के प्रमुख मोहम्मद मेहदी तस्ख़ीरी ने इस संगठन के रिपोर्टर के साथ बातचीत में, इस्लामिक और हिंदू धर्म के दूसरे दौर की वार्ता 26 अगस्त सोमवार  को धर्म और संस्कृति केंद्र के सहयोग से होने की सूचना दी।
उन्होंने कहा कि वार्ता यह दौर हिंदू विद्वानों और प्रोफ़सरों के एक उच्च-स्तरीय प्रतिनिधिमंडल के इस्लामी गणतंत्र ईरान की यात्रा के साथ जो इस वर्ष 24 से 27 अगस्त तक होगी इस्लामिक संस्कृति और संचार संगठन में आयोजित की जाएगी।
इस्लामिक धार्मिक और सांस्कृतिक संवाद केंद्र के प्रमुख ने बात जारी रखते हुऐ कहा: दूसरे दौर के इस्लाम और हिंदू धर्म के धार्मिक संवाद का मुख्य विषय "इस्लाम और हिंदू धर्म के परिप्रेक्ष्य से शांति और न्याय" है, जिसमें भारतीय और ईरानी विद्वान और प्रोफ़सर इस क्षेत्र में वैज्ञानिक लेख और शोध प्रस्तुत करेंगे।
हुज्जतुल इस्लाम मोहम्मद मेहदी तस्ख़ीरी ने संवाद के इस दौर के आयोजन में भारतीय दर्शन अनुसंधान परिषद और इस्लामिक रिलेशन एंड कल्चर ऑर्गनाइजेशन के धर्म और संस्कृति संवाद के केंद्र के सहयोग का जिक्र करते हुऐ स्पष्ट किया, हिंदू प्रोफेसरों का सात सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल इस्लामिक गणराज्य ईरान में रहने के दौरान और मुख्य कार्यक्रम के साथ हमारे कई सांस्कृतिक और वैज्ञानिक केंद्र का दौरा और हमारे देश के कुछ प्रोफेसरों से बात चीत भी करेगा।
उन्होंने इस्लाम और हिंदू धर्म के बीच धार्मिक संवाद को जारी रखने की आवश्यकता पर जोर दिया और कहा कि सम्मेलन और इस्लाम और हिंदू धर्म के बीच धार्मिक संवाद का शीर्षक वैश्विक शांति और सहानुभूति के संदेश को आगे बढ़ाएगा और निश्चित रूप से मुस्लिम और हिंदू विद्वानों के बीच संयुक्त सहयोग के लिए जमीन प्रदान करेगा।
इस्लामिक रिलेशन एंड कल्चर ऑर्गनाइजेशन के सेंटर फॉर रिलीजन एंड कल्चर्स के प्रमुख ने इस्लाम और हिंदू धर्म की धार्मिक वार्ता के पहले दौर का वर्णन किया:कि बात चीत का यह दौर नवंबर 2017 में "इस्लाम और हिंदू धर्म के दृष्टिकोण से आध्यात्मिकता"विषय पर इस्लामिक कल्चर एंड कम्युनिकेशंस के संगठन के प्रमुख अबूज़र अब्राहिमी तुर्कमान की अध्यक्षता में उच्च स्त्रीय ईरानी राष्ट्रमंडल की दिल्ली यात्रा पर भारत में आयोजित हुआ था और मेज़बान समुदाय पर बहुत ही सकारात्मक प्रभाव पड़ा था।
अंत में, उन्होंने जोर दिया: भारत और इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ ईरान ने पूरे इतिहास में लंबे समय तक संबंधों और मजबूत बंधन का प्रदर्शन किया है, और इस तरह के धार्मिक संवाद को लगातार बनाए रखना वांछनीय है।
 3836612
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :